मंगर / Mongar

Ranjay Kumar

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मंगर शीर्षक वाले पाठ का संक्षेप लिखें!

रामवृक्ष बेनीपुरी, जिन्हें ‘कलम का जादूगर’ कहा जाता है, एक ऐसे पत्रकार थे जो अपने आदर्शों और साहस के साथ आजदी के लिए संघर्ष करने में लगे रहे। उन्होंने अपने पत्रकारिता के क्षेत्र में दूसरों को मार्गदर्शन किया और उनका संघर्ष 14 बार जेल जाने का परिणाम था।

संजाबाद नामक उनके लेखन का अद्वितीय स्वरूप था, जो उनके साहित्य को एक नए दरबार में प्रस्तुत करता था। मंगर बेनीपुरी का शैलीष्ठ लेखन उन्हें साहित्यिक जगत में एक अद्वितीय स्थान पर स्थापित करता है, जहां ईमानदारी, आत्मनिर्भरता और समाजिक न्याय के मुद्दे उजागर होते हैं।

उनकी एक कहानी में दरबारी और सामाजिक बुराइयों के खिलाफ उठने वाले एक किसान मजदूर का चित्रण है, जो हल को खींचने में कठिनाईयों का सामना कर रहा है। उसकी शक्तिशाली आवाज के साथ, वह बैलों को खेतों में ले जाने का कार्य करता है, जो उसके साहस और उम्मीद को प्रतिष्ठानित करता है।

मंगर बेनीपुरी ने अपने लेखन में गरीबों के साभिमान को उच्चतम प्राथमिकता दी और उन्होंने कभी भी सत्ताधारियों की बात मानने का नहीं सोचा। उनकी साहित्यिक रचनाएं ईमानदारी, समर्पण, और साहित्यिक शौर्य की कहानी हैं जो आज भी हमें प्रेरित करती हैं।

मंगर बेनीपुरी और उनकी पत्नी अर्ध्यग्यनि का जीवन एक निर्धन परिवार की कहानी है, जिन्होंने अपनी मेहनत और समर्पण से जीवन को समृद्धि से भरा बनाया। उनका यह कठिन शरीर और उनका ईमानदार कामयाबी का प्रतीक ह

मगर / Magar

आधी रोटी को दो टुकड़े कर, वह बैलों को खिलाती थीं, महादेव मुँह की ओर देख खाएँ, यह क्लास होगा मंगर के लिए। इस सीख का संकेत है कि मंगर एक साहसी और अद्वितीय व्यक्तित्व थे जो अपनी जीवनशैली में साहित्य और साहस का मिश्रण करते थे।

इस बैल ने सिर्फ महादेव का साक्षात्कार नहीं किया, बल्कि इसने उसका आदर भी किया, जिससे यह स्पष्ट होता है कि उनके बीच एक अद्भुत रिश्ता था। मंगर की साहित्यिक कला में भी इस रिश्ते का परिचायक था, जिससे उनके काव्य और किस्से अद्वितीय बनते थे।

मंगर का स्वभाव रुखा और बेसिल था, उन्होंने अपने आत्मविश्वास और व्यक्तिगतिता के साथ जीवन का सामंजस्य बनाए रखा। उन्होंने किसी से विशेष रूप से छिपे नहीं किए और खुले मन से अपनी बातें कहते रहे।

मंगर बहुत कम कपड़ा पहनता था, जिससे उनका यह दृष्टिकोण दिखता है कि उन्होंने सामाजिक मानकों और साहित्यिक परंपराओं के प्रति अपनी अनौपचारिकता और स्वतंत्रता को बनाए रखा।

मंगर का शरीर खुबसूरत था, और उनकी अद्वितीयता उनके साहित्य में प्रतिफलित होती थी। हालांकि, उनकी कोई संतान नहीं थी, जिससे उन्हें समाज में सम्मान और सहारा नहीं मिला था। भकोलिया, उनकी पत्नी, ने ईमानदारी से उसकी सेवा की, जो उनके जीवन की अद्वितीय संघर्षों और सफलताओं का साक्षात्कार करती थी।

उनका दुःखद निधन होने के बाद, मंगर का व्यक्तिगत और साहित्यिक उत्साह सभी को प्रेरित करता है कि जीवन की हर कठिनाई का सामना विशेषतः उनके जैसे साहित्यकारों के लिए कैसे करें।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

5 मार्क्स हिंदी महत्वपूर्ण प्र्शन

मंगर(Lesson-3)

1. मंगर किस कोटी की रचना है ?

(A) बयंग

(B) कबिता

(C) कहानी

( D) लेखक

2 . मंगर का लेखक है ?

(A) रामधारी सिंह दिनकर

(B) रेणु

(C) रामवृक्ष बेनीपुरी

(D) नेपाली

3 . कलम का जादूगर कौन है ?

(A) प्रेमचंद्र

(B) रामवृक्ष बेनीपुरी

(C) महादेवी वर्मा

(D) रामधारी सिंह दिनकर

4 . रामवृक्ष बेनीपुरी का जन्म। …… हुआ ?

(A) 1900

(B) 1902

(C) 1901

(D) 1905

5 . रामवृक्ष वेनपुरी का मृत्यु। ……. में हुई ?

(A) 1986

(B) 1968

(C) 1956

(D) 1976

6 . मंगर का खूबी उसका। ……. था ?

(A) घमंड

(B) सभविमान

(C) रुखा

(D) सांत

7 . मंगर कौन था ?

(A) हलवाई

(B) मजदुर

(C) चरवाहा

(D) कृषक मजदुर

8 . भकोलिया किसकी अर्धागनी थी ?

(A) रामधन

(B ) बेनीपुरी

(C ) गोपालक

(D ) मंगर

9 . मंगर क़ी शरीर की तुलना किससे करता है ?

(A) शेर

(B) मिस्टर मूलक

(C) मिस्टर मौलिक

(D) मंगल

10 . देश की आजादी की बाद 14 बार जेल जाने वाले प्रथम पत्रकार कौन था ?

(A) मुंशी प्रेमचंद्र

(B) रामबृक्ष बेनीपुरी

(C) हरिशंकर परसाई

(D) गोपिल सिंह नेपाली

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

frequently asked questions

मंगर कौन हैं और उनका महत्व क्या है?
मंगर एक जाति है जो भारत और नेपाल में पाई जाती है, और इनका महत्व उनके सामाजिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक परंपराओं में है।

मंगर की भाषा और सांस्कृतिक विशेषताएँ क्या हैं?
मंगर लोग अपनी बोली में मिलजुल कर रहते हैं और उनकी सांस्कृतिक विशेषताएँ उनकी रंगीन नृत्य-संगीत और पर्व-त्योहारों में दिखाई देती हैं।

मंगर लोगों का इतिहास क्या है?
मंगर लोगों का इतिहास उनके ऐतिहासिक समय से लेकर आज के युग तक का है, जिसमें उनके समाज, संस्कृति, और योगदान की बहुत रूपेक्षणीय विकास शामिल है।

मंगर लोगों के प्रमुख धार्मिक अनुसरण क्या हैं?
मंगर लोगों का प्रमुख धार्मिक अनुसरण हिन्दू और बौद्ध है, और उनकी पूजा-अराधना में विभिन्न देवी-देवताओं की उपासना शामिल है।

मंगर समाज में सामाजिक सुधार और शिक्षा का क्या स्तर है?
मंगर समाज में सामाजिक सुधार और शिक्षा का स्तर बढ़ रहा है, और वे अपने सदस्यों को शिक्षित बनाने और सामाजिक समृद्धि में योगदान करने के प्रति समर्पित हैं।

conclusion

मंगर जाति के बारे में ये प्रश्न-उत्तर हमें इस समृद्धि भरे समुदाय के महत्वपूर्ण पहलुओं के प्रति जागरूक करते हैं। उनकी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धाराएं हमें उनके समृद्धि और समर्पण की ओर मोड़ने का सामर्थ्य प्रदान करती हैं। उनका धार्मिक और सामाजिक जीवन हमें एक अनूठे संस्कृति की ओर प्रवृत्ति करता है और उनके समाज में होने वाले सामाजिक सुधार और शिक्षा के स्तर की चर्चा हमें यह बताती है कि वे अपने समुदाय के समृद्धि और उन्नति के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस प्रकार, मंगर समाज एक समृद्ध और समर्थ समुदाय की उत्कृष्टता का प्रतीक है।

Leave a Comment