Bihar Board Exam Pattern 2024: Subjects for 10th and 12th Grade

Ranjay Kumar

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Bihar Board Exam Pattern 2024: कक्षा 12वीं और 10वीं के सभी विषय

बिहार बोर्ड की वार्षिक परीक्षा 2024 में, इंटरमीडिएट परीक्षा नए बिहार बोर्ड परीक्षा पैटर्न 2024 के अनुसार आयोजित की जाएगी। इस सत्र से पहले के मुकाबले, बिहार बोर्ड ने परीक्षा पैटर्न में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन किए हैं।

तीन मुख्य परिवर्तनों में से पहला, परीक्षा समय में बदलाव है, जिससे छात्रों को पूर्ण परीक्षा करने के लिए अधिक समय मिलेगा। दूसरा परिवर्तन नए प्रकार के प्रश्न पत्रों को शामिल करने का है, जिससे छात्रों को विभिन्न पहलुओं से परीक्षा देने में साहस मिलेगा। तृतीय परिवर्तन में, अंकन से संबंधित नए निर्देशों की घोषणा की गई है, जो छात्रों को अंकन के क्षेत्र में और अधिक सुधार करने का अवसर देगा।

इन परिवर्तनों का उद्दीपन करने के लिए बिहार बोर्ड का उद्देश्य है कि ये छात्रों को परीक्षा के प्रति आत्मविश्वास और समर्पण बढ़ावा देंगे, जिससे परीक्षा में सफलता प्राप्त करने की अवसरों में सुधार होगा। यह परिवर्तन छात्रों को न केवल प्रश्नों को सही तरीके से समझने में मदद करेंगे, बल्कि उन्हें अपनी प्रतिभा को पूरी तरह से प्रकट करने का भी अवसर देंगे।

इस से संबंधित बड़े परिवर्तनों की यह पहली कदम है जो छात्रों को एक नए और सुधारित परीक्षा प्रणाली की ओर मोड़ने का प्रयास कर रहा है, जिससे उन्हें अधिक सफलता प्राप्त करने में मदद हो सकती है।

Bihar Board Exam Pattern 2024: अब छात्रों को दो पसंदीदा भाषा विषयों का चयन करने का नया अवसर

अब छात्रों को उनकी प्राथमिकतानुसार दो भाषा विषयों का चयन करने का एक नया और सुधारित विकल्प है। पहले, पेपर 1 में NRB- हिंदी (50 अंक) और MB वैकल्पिक अंग्रेजी / मैथिली / उर्दू (50 अंक) होते थे, जबकि पेपर 2 में छात्रों को विभिन्न भाषाओं में विषयों का अध्ययन करना होता था, जैसे कि अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू, मैथिली, संस्कृत, प्राकृत, मगही, भोजपुरी, बंगाली, अरबी, या पर्शियन से।

इस सुधार के बाद, छात्रों को अब उनकी पसंदीदा भाषा विषयों को चुनने का और भी विशेषाधिकार है। यह उन्हें अधिक स्वतंत्रता और रूचि के अनुसार अध्ययन करने का सुनहरा अवसर प्रदान करेगा। पहले जहाँ पेपर 1 में विशेष भाषा (NRB- हिंदी) और वैकल्पिक भाषा (MB- अंग्रेजी / मैथिली / उर्दू) का चयन करना होता था, वहीं अब छात्रों को उनकी प्रिय दो भाषाओं का चयन करने की अनुमति है। इससे उन्हें विषयों के प्रति अधिक रूचि और सहजता मिलेगी, जिससे उनकी शिक्षा में गहराई और समझ में सुधार हो सकता है।

नए बिहार बोर्ड परीक्षा पैटर्न 2024 के साथ, छात्रों को दोनों पेपरों में या तो अंग्रेजी या हिंदी का चयन करने की अनुमति दी गई, जिससे अस्पष्टता और पुनरावृत्ति का संभावना था। इस स्थिति ने छात्रों को संदेह और दोहरापन की स्थिति में डाल दिया था।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में, बिहार बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर ने बताया कि बिहार बोर्ड ने एक विशेष समिति की स्थापना की थी जिसने अन्य राज्य बोर्ड और सीबीएसई के पैटर्न का विशेषज्ञ अध्ययन किया। इस समिति ने मुख्यतः छात्रों की आसानी के लिए परीक्षा पैटर्न में कुछ परिवर्तन करने का सुझाव दिया और इसे लागू करने का निर्णय लिया।

यह प्रणाली में किए गए परिवर्तनों का उद्देश्य छात्रों को परीक्षा के समय में अधिक साहस और स्वतंत्रता प्रदान करना है, ताकि वे अपनी रुचियों और अभिरुचियों के आधार पर सही भाषा विषय का चयन कर सकें। यह सुनिश्चित करने का प्रयास है कि छात्र परीक्षा के समय में स्वतंत्रता महसूस करें और उन्हें उच्चतम सफलता प्राप्त करने के लिए आत्म-निर्भर बनाए रखा जा सके।

नई संशोधित मार्किंग स्कीम के अनुसार, यह बताया गया है कि अगर कोई छात्र वार्षिक बिहार बोर्ड परीक्षा 2024 में अनिवार्य विषय में फेल होता है, तो उसके अतिरिक्त विषय के प्राप्त अंकों को उनकी जगह लिया जाएगा। यह बड़ा बदलाव बिहार बोर्ड परीक्षा पैटर्न 2024 में एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे छात्रों को एक और अवसर मिलता है अगर वे किसी अनिवार्य विषय में सफलता नहीं प्राप्त कर पाते हैं।

इस नए सिद्धांत से, छात्रों को यह विश्वास होगा कि वे अगर किसी एक विषय में स्थानीय तौर पर कमजोरी रखते हैं, तो उन्हें उनकी दूसरी प्रिय विषयों में अच्छे अंकों का मौका मिलेगा। यह सिद्धांत छात्रों को अधिक स्वतंत्रता और सुरक्षा का अहसास कराता है, जिससे उनका आत्म-समर्थन बढ़ता है और वे पढ़ाई में नए दृष्टिकोण अपनाते हैं।

इस नए बदलाव से, बिहार बोर्ड ने छात्रों को समर्थन और समझदारी के साथ पढ़ाई में आगे बढ़ने का मौका दिया है, और उन्हें एक सामान्य प्रणाली के बावजूद अपनी समर्थन क्षमता को दिखाने का अवसर प्रदान किया है।

Bihar Board Exam Pattern Update 2024

बिहार बोर्ड ने कक्षा 12वीं और 10वीं के लिए पाठ्यक्रम और परीक्षा पैटर्न में संशोधन किया है, जिससे छात्रों को एक नए और सुधारित पैटर्न के अनुसार पढ़ाई करने का अवसर मिलेगा। नए बिहार बोर्ड परीक्षा पैटर्न 2024 के अनुसार, प्रत्येक विषय में अब 50% प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे, जो छात्रों को नए सोचने और समझने की प्रोत्साहित करेंगे। इसके साथ ही, अब 50% प्रश्न प्रथात्मक या सिद्धांत पर आधारित होंगे, जिससे छात्रों को सिद्धांतों को समझने और उन्हें व्यक्त करने का अधिक अवसर मिलेगा।

यह सुधार छात्रों को अधिक सकारात्मक पढ़ाई की दिशा में मोड़ने का प्रयास कर रहा है और उन्हें विभिन्न पहलुओं से संपर्क करने का अवसर प्रदान कर रहा है। वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न छात्रों को विषय के अध्ययन में गहराई में जाने का संबोधन करेंगे, जबकि प्रथात्मक या सिद्धांत पर आधारित प्रश्न उन्हें विचारशीलता और विश्लेषण करने के लिए प्रेरित करेंगे।

इस नए पैटर्न के माध्यम से, बिहार बोर्ड ने छात्रों को व्यापक रूप से विकसित करने और उन्हें अधिक समझदार और नौकरी के लिए तैयार करने का मकसद रखा है।

नए बीएसईबी परीक्षा पैटर्न के अनुसार, बिहार बोर्ड कक्षा 12वीं और 10वीं की परीक्षा में 50% बहुविकल्प प्रश्न शामिल हैं, जिनमें प्रत्येक का 1 अंक होता है। यह नया पैटर्न छात्रों को एक नए और सुधारित तरीके से परीक्षा की तैयारी करने का मौका देता है। विभिन्न प्रकार के प्रश्नों के माध्यम से, छात्रों को अपनी समझ और विचारशीलता का परीक्षण करने का अवसर मिलेगा।

ऐसे विषयों में, जिनमें सिद्धांत और प्रैक्टिकल दोनों होते हैं, सिर्फ सिद्धांतिक पेपर में ही 35 बहुविकल्प प्रश्न होंगे, जो छात्रों को विषय के सिद्धांतिक पहलुओं को समझने के लिए अधिक समय देगा। इससे छात्रों को विभिन्न पहलुओं से उच्चतम शिक्षा प्राप्त करने के लिए उचित समर्थन प्राप्त होगा।

पूर्ण परीक्षा का समयावधि 3 घंटे 15 मिनट है, जिससे छात्रों को प्रत्येक प्रश्न को सही से पूरा करने के लिए समय मिलेगा। इस समयावधि के अंदर, छात्रों को अपनी तैयारी को सुनिश्चित करने के लिए समय और योजना बनाने का मौका मिलेगा।

इसलिए, वार्षिक परीक्षा की तैयारी करते समय, छात्रों को बीएसईबी कक्षा 10वीं और 12वीं के सिलेबस 2024 से परिचित होना अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह उन्हें परीक्षा के नए पैटर्न और विषयों की संरचना के बारे में सूचना प्रदान करेगा। यह छात्रों को परीक्षा में आत्म-निर्भरता और सफलता प्राप्त करने के लिए अधिक साहस प्रदान करने का उद्दीपन करता है।

छात्रों को बिहार बोर्ड वार्षिक परीक्षा के लिए बेहतर तैयारी करने के लिए उपयुक्त सुझाव और ट्रिक्स समझने का भी एक अच्छा मौका है। इसमें प्रशिक्षण लेने का उचित तरीका सीखने के साथ-साथ, छात्रों को परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आवश्यक योजनाएं बनाने में मदद हो सकती हैं।

कक्षा मैट्रिक और इंटरमीडिएट के लिए बिहार बोर्ड की मार्किंग स्कीम में संशोधन किया गया है, जिससे छात्रों को अच्छे तरीके से समझाया जा सकता है कि वे परीक्षा के लिए कैसे बेहतर तैयारी कर सकते हैं।

संशोधित मार्किंग स्कीम के अनुसार, यदि कोई छात्र बिहार बोर्ड परीक्षा 2024 में अनिवार्य विषय में असफल होता है, तो उसके प्राप्त किए गए अतिरिक्त विषय में अंकों को मूल्यांकन किया जाएगा। यह नया परिवर्तन छात्रों को पूर्ण पासिंग मार्क्स प्राप्त करने के लिए परीक्षा में उपस्थित होने की संभावना प्रदान करेगा, जिससे उनका आत्मविश्वास बढ़ सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Bihar Board Exam Pattern 2024: कक्षा 12वीं और 10वीं के सभी विषय

पद का नाम: बिहार बोर्ड परीक्षा पैटर्न

परीक्षा का नाम: बिहार बोर्ड वार्षिक परीक्षा

आयोजन करने वाला निकाय: बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड

आयोजन की विवरणी: यह परीक्षा बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड द्वारा वर्षभर में एक बार आयोजित की जाती है। इसमें मैट्रिक और इंटरमीडिएट स्तर के छात्रों को शामिल किया जाता है, जिन्हें विभिन्न विषयों में परीक्षा देने का अवसर मिलता है।

परीक्षा स्तर: यह परीक्षा मैट्रिक और इंटरमीडिएट स्तर के छात्रों के लिए है, जो अपने शैक्षणिक पाठ्यक्रम के आधार पर इसमें भाग लेते हैं।

भाषाएँ: इस परीक्षा को हिंदी और अंग्रेजी भाषा में आयोजित किया जाता है, जिससे छात्रों को अपनी प्राथमिक भाषा में सही जवाब देने का अवसर मिलता है।

परीक्षा का तरीका: यह परीक्षा ऑफलाइन तरीके से आयोजित की जाती है, जिसमें छात्रों को आधिकारिक परीक्षा केंद्रों में जाकर उत्तर पत्र लिखने का अवसर मिलता है।

परीक्षा की अवधि: इस परीक्षा का समयकाल तीन घंटे और पंद्रह मिनट है, जिसमें छात्रों को सभी प्रश्नों का सही उत्तर देने के लिए पर्याप्त समय मिलता है।

आधिकारिक वेबसाइट: बिहार बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट biharboardonline.bihar.gov.in पर छात्रों को सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त होती है और यहां से वे अपनी परीक्षा से संबंधित नवीनतम अपडेट भी प्राप्त कर सकते हैं।

इस साल से छात्रों को कागज 1 में हिंदी या अंग्रेजी का चयन करना होगा, जिसमें 100 अंक होंगे, और कागज 2 में उन्हें 12 विकल्पों में से किसी भी एक भाषा का चयन करने की अनुमति होगी। इस नई व्यवस्था के अनुसार, छात्रों को दोनों पेपर्स में समान विषय का चयन करने की अनुमति नहीं होगी, जिससे विभिन्न विषयों में परीक्षा देने का अवसर मिलेगा। प्रत्येक भाषा कागज का मूल्यांकन 100-100 अंकों का होगा, जिससे छात्रों को अपने शैक्षणिक पथ में सफलता प्राप्त करने के लिए समर्पित करने का एक अच्छा मौका मिलेगा।

नए बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट पैटर्न का अध्ययन करने से छात्रों को प्रभावी अध्ययन योजना बनाने में और प्रत्येक विषय को समझने में मदद मिलेगी, जिससे उनकी तैयारी में सुधार हो सकता है। यह नया पैटर्न छात्रों को सिलेबस को समझने और सीखने में सुविधा प्रदान करेगा, जिससे वे परीक्षा के लिए अधिक सक्षम हो सकते हैं। रिपोर्ट्स इसके साथ ही बताती हैं कि बोर्ड ने कक्षा BSEB इंटरमीडिएट परीक्षा सिलेबस में 30 प्रतिशत की कमी का प्रस्ताव पेश किया है। यदि इसे राज्य विभाग द्वारा मंजूरी मिलती है, तो विज्ञान, वाणिज्य, और कला क्षेत्रों के सिलेबस को 30 प्रतिशत तक कम किया जाएगा, जिससे छात्रों को अध्ययन के लिए अधिक समय और सुविधा मिल सकेगी।

BSEB Exam Pattern for All Streams

10वीं और 12वीं दोनों ही एक छात्र के जीवन में महत्वपूर्ण चरण होते हैं। इन परीक्षाओं में प्राप्त किए गए परिणामों के आधार पर छात्र की प्रतिभा का मूल्यांकन किया जा सकता है, जिससे उसके अगले कदम का निर्णय होता है। यह चरण छात्र के भविष्य को भी स्थापित करता है और उसके करियर की दिशा को प्रभावित करता है।

एक उज्ज्वल और सफल करियर की कड़ी में, छात्रों को अच्छे प्रदर्शन के लिए प्रभावी रूप से तैयारी करने की आवश्यकता होती है। श्रेष्ठ अध्ययन सामग्री और संदर्भ पुस्तकों के साथ-साथ, बिहार बोर्ड परीक्षा पैटर्न 2024 या बिहार बोर्ड मैट्रिक कक्षा पैटर्न का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है।

इस पैटर्न के माध्यम से, छात्रों को परीक्षा की संरचना, प्रकार, और मार्किंग स्कीम से जुड़े निर्देश प्राप्त होते हैं, जिससे उन्हें अच्छे तरीके से तैयारी करने में मदद मिलती है। छात्रों को इस प्रकार के निर्देशों का पालन करके अपनी पढ़ाई को और भी संरचित बनाने का एक अच्छा माध्यम मिलता है, जिससे उनकी प्रदर्शन में सुधार हो सकता है और उन्हें अध्ययन के लिए आत्म-संवादी, निर्णयकारी बनाता है।

इससे नहीं केवल परीक्षा के परिणाम में ही बल्कि छात्रों के व्यक्तिगत और पेशेवर विकास में भी सुधार होता है और उन्हें एक सफल और प्रबल करियर की दिशा में आगे बढ़ने के लिए तैयार करता है।

सही जानकारी के बिना कोई भी छात्र सर्वोत्तम प्रदर्शन नहीं कर सकता। बिहार बोर्ड 12वीं मॉडल पेपर या बिहार बोर्ड 10वीं मॉडल पेपर एक ऐसा स्रोत है जो छात्रों को प्रश्न प्रकारों और बिहार बोर्ड 2024 परीक्षा पैटर्न का अवलोकन प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

इन मॉडल पेपर्स के माध्यम से, छात्र परीक्षा में आने वाले प्रश्नों के प्रकार और व्यवस्था को पहचान सकते हैं। ये उन्हें प्रक्रिया को समझने और उचित तैयारी के लिए महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं। बिहार बोर्ड के 12वीं और 10वीं मॉडल पेपर्स छात्रों को परीक्षा के मूल्यांकन में उनकी तैयारी को सुधारने में सहायक हो सकते हैं।

यदि छात्र इन मॉडल पेपर्स को ध्यान से पढ़ते हैं, तो उन्हें परीक्षा पैटर्न, मार्किंग स्कीम, और प्रश्न प्रकार को समझने में मदद मिलती है। ये प्रश्न पत्रों का अध्ययन उन्हें परीक्षा के दिन सकारात्मक और अत्यंत सक्षम प्रदर्शन के लिए तैयार करता है। इस प्रकार, बिहार बोर्ड 12वीं और 10वीं मॉडल पेपर्स छात्रों को उनके अध्ययन को सुधारने और उनकी परीक्षा तैयारी को बेहतर बनाने में सहायक होते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

changes in Bihar Board Exam Pattern

अतिरिक्त विषयों का महत्वपूर्ण रूप से योगदान: यदि कोई छात्र किसी अतिरिक्त विषय में सफलता प्राप्त करता है और उसके मुख्य विषयों में से किसी एक में असफल रहता है; तो उस अतिरिक्त विषय को उस मुख्य विषय से बदल दिया जाएगा और उम्मीदवार को पास घोषित किया जाएगा।

100 अंकों के दो भाषा पत्र: अब छात्रों को केवल दो भाषा पत्र में प्रदर्शन करना होगा, प्रत्येक में 100 अंक होंगे। यह NRB और MB के मौजूदा 50-50 अंकों के भाषा पत्र को बदल देगा।

भाषा पत्र नियम: पेपर 1 हिंदी या अंग्रेजी हो सकता है। पेपर 2 में, छात्र हिंदी या अंग्रेजी (जो पेपर 1 में चयन नहीं हुआ हो) या संस्कृत, उर्दू, मैथिली, प्राकृत, भोजपुरी, अरबी, पर्षियन, पाली, बंगाली, या माघी में से 10 भाषाओं में से एक का चयन कर सकते हैं।

पेपर 1 और पेपर 2 के अलावा, छात्रों को एक अतिरिक्त विषय के रूप में तीसरी भाषा चुनने का मौका है। छात्रों को एक भाषा में पेपर पास करना चाहिए ताकि वे दूसरी भाषा को एक अतिरिक्त विषय के साथ बदल सकें।

अतिरिक्त विषय विकल्प में अधिक विकल्प: बिहार बोर्ड ने विस्तार किया है कि कौन-कौन से विषयों को अतिरिक्त विषय के रूप में चुना जा सकता है। उदाहरण के लिए – पहले केवल गणित, कंप्यूटर विज्ञान या मल्टीमीडिया को विज्ञान शाखा में अतिरिक्त विषय के रूप में चुना जा सकता था। अब PCM छात्र बायोलॉजी को भी अतिरिक्त विषय के रूप में चुन सकते हैं।

यह ध्यान देने योग्य है कि छात्रों को अब भी केवल 5 मुख्य विषयों में ही प्रकट होने की आवश्यकता है। इसका मतलब है कि अतिरिक्त विषयों का चयन वैकल्पिक है। छात्र केवल 2 भाषा पत्रों में प्रदर्शन कर सकता है और 3 वैकल्पिक विषयों में प्रदर्शन कर सकता है और अतिरिक्त विषयों का चयन नहीं कर सकता है।

Bihar Bij Anudan Online Form 2024: Commencement Of Application Process For Hot 2023-24 Seed Grants: Discover Which Seeds Qualify For Grants And How To Apply – Complete Details

frequently asked questions

अतिरिक्त विषयों का महत्वपूर्ण रूप से योगदान क्या है?
यदि कोई छात्र किसी अतिरिक्त विषय में सफलता प्राप्त करता है और किसी मुख्य विषय में असफल रहता है, तो उसे असफल विषय की जगह उस अतिरिक्त विषय से बदलकर पास घोषित किया जाएगा।

100 अंकों के दो भाषा पत्र क्या हैं?
अब छात्रों को केवल दो भाषा पत्र में प्रदर्शन करना होगा, प्रत्येक में 100 अंक होंगे, जिससे NRB और MB के मौजूदा 50-50 अंकों के भाषा पत्र को बदल दिया जाएगा।

भाषा पत्र नियम में क्या उल्लेख है?
पेपर 1 हिंदी या अंग्रेजी हो सकता है और पेपर 2 में, छात्र हिंदी या अंग्रेजी या 10 अन्य भाषाओं में से एक का चयन कर सकता है।

क्या तीसरी भाषा को अतिरिक्त विषय के रूप में चुना जा सकता है?
हाँ, छात्रों को एक भाषा में पेपर पास करने के बाद वे उसे अतिरिक्त विषय के रूप में बदल सकते हैं।

अतिरिक्त विषय विकल्प में कौन-कौन से विकल्प हैं?
बिहार बोर्ड ने अतिरिक्त विषय के रूप में चुनने के लिए विषयों की संख्या बढ़ाई है, जैसे कि PCM छात्र अब बायोलॉजी को भी अतिरिक्त विषय के रूप में चुन सकते हैं।

क्या छात्रों को अब भी केवल 5 मुख्य विषयों में ही प्रकट होना है?
हाँ, छात्रों को अब भी केवल 5 मुख्य विषयों में ही प्रकट होने की आवश्यकता है।

क्या छात्र अतिरिक्त विषयों का चयन नहीं कर सकते हैं?
 हाँ, यह छात्र के विकल्प पर निर्भर करता है कि वह अतिरिक्त विषय चयन करता है या नहीं।

पेपर 1 और पेपर 2 में क्या अंतर है?
पेपर 1 एक भाषा (हिंदी या अंग्रेजी) का हो सकता है, जबकि पेपर 2 में छात्र अपनी पसंदीदा भाषा का चयन कर सकता है।

छात्र को कितनी भाषाओं में से चयन करने का विकल्प है?
पेपर 2 में, छात्र हिंदी या अंग्रेजी (जो पेपर 1 में चयन नहीं हुआ हो) या 10 अन्य भाषाओं में से एक का चयन कर सकता है।

क्या पेपर 1 और पेपर 2 के अलावा भी एक अतिरिक्त विषय चयन किया जा सकता है?
हाँ, छात्रों को एक अतिरिक्त विषय के रूप में तीसरी भाषा चुनने का भी मौका है।

conclusion

इस नए प्रस्ताव के माध्यम से, बिहार बोर्ड ने शिक्षा के क्षेत्र में सुधार करने के लिए कदम उठाया है। अतिरिक्त विषयों के महत्वपूर्ण रूप से योगदान के तंत्र का आयोजन, भाषा पत्रों में सुधार, और विषय चयन की विकल्पों में वृद्धि ने छात्रों को और भी विकल्पों के साथ समृद्धि दिलाई है। यह सुनिश्चित करने का प्रयास करता है कि हर एक छात्र को उनकी रूचियों और क्षमताओं के अनुसार अध्ययन करने का एक नया दृष्टिकोण मिलता है। इस प्रणाली से, बोर्ड ने शिक्षा को और व्यापक बनाने का प्रयास किया है ताकि छात्र अपनी स्थिति के अनुसार विकल्प चयन कर सकें और अपने प्रयासों में सफलता प्राप्त कर सकें।

Leave a Comment